अररिया जिला का इतिहास, जो आप नहीं जानते|Araria District

अररिया जिला की समस्या

जिला के सबसे बड़ी समस्या बाढ़ हर साल अगस्त के महीने में ग्रामीण इलाको का क्षेत्र बाढ़ के पानी से डूब जाता है |

अररिया जिला किस पर निर्भर है?

अररिया जिला का अधिकतर जनसँख्या कृषि पर निर्भर है | जिला के लोगों का आय का मुख्य श्रोत व्यापर और कृषि है |

अररिया जिला का साक्षरता दर

अररिया जिला साक्षरता दर काफी कम है जबकि यह गणना 2001 के अनुसार है लेकिन अभी के समय में यहाँ की साक्षरता दर में अच्छी वृद्धि हुई है,

अररिया जिला जनसंख्या

अररिया मुख्य रूप से ग्रामीण जिला है यहाँ के गाव में 93 प्रतिशत जनता निवास करते है | जनगणना के अनुसार 28 लाख और वर्तमान में जनसँख्या लगभग 45 लाख हो सकती है |

अररिया में बोली जाने वाली भाषा

अररिया में बोली जाने वाली भाषा हिंदी,मैथिलि,बंगला,उर्दू,और कुल्हैय्या है. यहाँ पर कुल्हैय्या भाषा भी बोली जाती है | इसके अलावा भी और अनेक प्रकार को भाषा अररिया जिला में बोली जाती है |

अररिया जिला इतिहास

1964 में तत्कालीन पूर्णिया जिला का वर्तमान समय के जिला का क्षेत्र अररिया उपखंड बन गया| अररिया जिला जनवरी 1990 में पूर्णिया प्रमंडल के तहत प्रशासनिक जिला बन गया| और उस समय अररिया में विधायक के तौर पर मरहूम तस्लीमुद्दीन जी थे |